गुगल एनालिटिक्स – से बिझनेस मे मदद?- How can businesses benefit from using analytics on their website?

Sd_Aspire

Updated on:

How can businesses benefit from using analytics on their website?

businesses benefit from using analytics

जिस हेतू हमने अपने बिझनेस की वेबसाईट  शुरु की थी क्या  उससे हमें मन चाये रिजल्ट मिल रहे है? businesses benefit from using analytics

  • अपनी बिज़नेस वेबसाइट कितनी खरी उतरी है?
  • क्या  वेबसाइट लोगो को पसंद आ रही है?
  • क्या हमने लिखा हुवा कंटेंट लोग पढ़ रहे ?
  • कौनसी जगह है जहां से लोग हमारी वेबसाइट पे विजिट कर है है?
  • ऐसे कई सवाल , और कई सारे विषय आपके मन , दिमाग मे रहे होंगे।

गूगल एनालिटिक्स एक ऐसा सशक्त माध्यम है जिसे से आप अपने वेबसाइट का सही ढंग से विशलेषण करके , साइट में कमियां और अछियाएँ ढूंढ सकते है। ऐसे बहोत सारे पैमाने है, तरीके है, तर्क है रुज़ान ह्या इंग्लिमें मे  पैरामीटर्स कह ले उनसे आप सही आकलन कर सकते है।

देखते है कैसे बिज़नेस में गूगल एनालिटिक्स आपकी मदत कर सकता है।- How can businesses benefit from using analytics on their website?

पहले तो आपको अपनी वेबसाइट गूगल एनालिटिक्स से कनेक्ट कर ले!!

इम्प्रेशन

पहला होता है इम्प्रेशन – बाउन्स रेट- मतलब आपका आर्टिकल ला टायटल , हेडलाइन पढ़ के लोग तो आपके साइट पे आ गये। लेकिन क्या उनको हो मिला जो हो चाहते थे, ढूंढ रहे थे? क्या उनके सवालों का आपका सवाल जवाब दे पाया? उनकी मुश्किलात दूर हुई? या फिर हो  दो सेकंड में आपका आर्टिकल बिना पढ़े निकल गये।

यह सब आप जान सकते है बाउन्स रेट से जो आपको गूगल एनालिटिक्स के माध्यम से पता चल सकता है।

विजिटर लोकेशन -Geo Locations

कौनसी जग़ह है जहाँ से लोग आपके साइट पर  विजिट कर रहे है। समजो आपका कोई ड्रेस डिजाइन गारमेंट्स का मेन बिज़नेस दिल्ली में  है। और आपके साइट्स पे विजिट देने वाले बहोत सारे लोग महाराष्ट्र एवं तमिलनाडु से भी है तो आप इस इन्फर्मेशन की मदद से आपके बिज़नेस कोई बदलाव ला सकते है, कोई वह कर लोकल ड्रेस डिज़ाइन कर सकतें है या अपनी कोई नई शॉप के शाखा वहां खोल सकते है।

ALSO READ  Jailer Rajinikanth Movie 2023 Release Date | Cast | Songs | Trailer | OTT

आपके कीवर्ड्स -Keyword Analysis

गूगल अनायलिटिक्स की मदद से आप कौनसे ऐसे कीवर्ड्स है जिनकी आपके साइट पे लोग आ रहे है उनका आकलन कर सकते है।  जो कीवर्ड ज्यादा अच्छा परफॉर्म कर है उनपे और थोड़ा ऑप्टिमाइजेशन कर के आप आपका ट्राफिक बढा सकते है। आपको तो थोड़ा बहोत SEO की मालूमात तो होगी ही, आप इस जानकारी से अगर आपका पेज दो नंबर पे तो उसे गुगल।सर्च में 1 नंबर पे ला सकते है।

Segmentations

सेग्मेंटेशन – इस पैरामीटर से आप के ग्राहक या आपके विजिटर के बारे में अधिक जानकारी  पाकर और आपका ध्यान ठीक से केन्दित कर के ग्राहक की डिमांड अनुसार आपकी मार्केटिंग स्ट्रेटजी प्लान कर सकते है।  आपको सही ढंग से  ग्राहक की पसंदीदा चीज़े जान के  उन चीज़े पर या प्रोडक्ट्स पे ज्यादा फोकस कर सकते है।

स्पर्धात्मक अभ्यास Competition study –

आप अच्छी मार्कटिंग कर रहे है, अच्छे प्रोडक्ट्स लॉन्च कर है। सब कुछ ठीक है लेकिन क्या आपके जो बिज़नेस में प्रतिस्पर्धी है उनके बारे में आप जानते है? आपको जब आपके साइट विजिट करने वालो का डेटा मिल जाये तो आप तो कोई aharts या smurush जैसे कीवर्ड टूल्स का उपयोग करके  आपके प्रतिस्पर्धी की गतिविधियों का पता लागके अपने बिजनेस में अलर्ट रह सकते है।

ट्रैफिक सोर्स-Traffic source

आपके साइट पे आने वाले लोग ज्यादातर कहा से आ रहे है यह जान सकते है। जैसे कि गूगल से मतलब क्या ऑर्गनिक ट्रैफिक से , य डायरेक्ट या रेफरल या सोशल मीडिया से? यह जानकारी आपके बिज़नेस में।बहोत मदद करेगी!

अगर किसी एक सोशल मीडिया से आपके के ग्राहक बढ़ रहे है तो आप उस सोशल मीडिया पे फोकस कर के अपनी सोशल मीडिया एंगेजमेंट प्लान कर सकते है। नई स्ट्रेटजी बना सकते है।

ALSO READ  No Entry Tamil Movie 2023 Cast | Release Date | Trailer | Songs | OTT

User Devices विजिटर्स डिवाईस-

आप यकीन नई मानोगे लेकिन GA के उपयोग से आप आपका ग्राहक विजिटर कौनसा ब्राऊजर यूज करता है? Chrome, फ़ायरफ़ॉक्स, edge, ,safar या  opera ? कौनसी  ऑपरेटिंग सिस्टम।यूज करते है जैसे एंड्राइड, या विंडोज या लिनक्स इत्यादि। इस डेटा के उपयोग से आप आपका वेबसाइट कंटेंट या डिजाइन में जरूरी बदलाव ला सकते है।

अब सवाल आता इस जानकारी क्या इम्प्रोवमेंट कर सकते है

  1. आप कौंनसा आर्टिकल, कंटेंट ज्यादा लोगो प पसंद  है वैसे कटेंट पे ज्यादा फोकस कर सकते है.
  2.  जिस आर्टिक्ल का बाउन्स रेट ज्यादा है उसे बेहतर बना सकते है।
  3.  ज्यादा खपत वाले।प्रॉडक्ट्स बेहतर तरीके से मार्केटिंग कर सकते है
  4. विजिटर्स का age group जान के वैसे contnet बढ़ा सकते है।
  5. कौनसा ट्रेंड चल जानके अपने साइट में बदलाव ला सकते है।
  6. exit रिपोर्ट्स से कौनसी पेज से लोग एग्जिट लेते है यह जान सकते है
  7. अपने वेबसाइट का एवरेज लोड टाइम जान सकते है।
  8. इस हफ्ते महीने या दिने में कितने विजिटर साइट पे आ रहे यह जान के अपनी होस्टिंग enough है या नही जान सकते है।
  9. रियल टाइम में मतलब इस वक्त आपके साइट पे कितने लोग देख सकते है।
  10. इसके इलावा बहोत सारे इनसाइट है जैसे  आप गोल सेट कर सकते है conversion analysis  कर सकते हैं।
  11. यह था एक गूगल अनायलिटिक्स के बारे में बेसिके जानकरी जो हमे मदद कर सकती है.
Sharing Is Caring:
Web series became popular due to the boldness of these actresses